Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

चंद्रशेखर आज़ाद की ईमानदारी Short Hindi Story of Chandrshekhar Aazad

चंद्रशेखर आज़ाद की ईमानदारी

Short inspirational Hindi Story of Chandrshekhar Aazad

चंद्रशेखर आज़ाद की ईमानदारी Short Hindi Story of Chandrshekhar Aazad

चंद्रशेखर आज़ाद की ईमानदारी Short Hindi Story of Chandrshekhar Aazad

Friends… हमारे देश में जितने भी महान व्यक्ति हुए हैं उनका जीवन भी उतना ही महान हुआ करता था। उन्ही महान लोगों में से एक चंद्रशेखर आज़ाद थे। आज मैं उनके जीवन से जुड़ी छोटी सी कहानी आपके साथ Share कर रही हूँ।

बात उन दिनों की है, जब चन्द्रशेखर आज़ाद की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं चल रही थी। वह एक कम्पनी में जो झाँसी में स्थित थी वहाँ मोटरगाड़ी चलाकर गुज़र बसर कर रहे थे। परिस्थितियाँ कुछ इस कदर प्रतिकूल थीं कि उन्हें चने खाकर अपनी भूख को शांत करना पड़ता था।

एक दिन ऐसा हुआ कि उनके पास एक एकन्नी ही बची, सारा दिन मोटरगाड़ी चलाते रहे। उन्होंने दिनभर से कुछ नहीं खाया था। शाम तक उन्हें बहुत जोरों से भूख सताने लगी। तभी उन्हें एक चने बेचने वाला दिखा।

आखिरकार उन्होंने उस एकन्नी को खर्च करने का फैसला किया।

चने वाले के पास गए और उस एकन्नी के भुने हुए चने ले लिए। जब वो चने खा रहे थे, तो उन चनों के साथ अचानक  एक और एकन्नी निकल आयी। जिसे देखकर वह चकित हो गए। कुछ समय के लिए उनका मन डोल गया, उन्होंने सोचा कि इससे कल का काम भी चल जाएगा।

तभी वह कुछ देर बैठे और सोचने लगे।

“अगर मैं ये एकन्नी रख लेता हूँ तो मेरा कल का काम तो चल जाएगा, पर हमेशा मुझे ये बात मन में कचोटेगी कि मैंने किसी और का पैसा रखा लिया। उनका विवेक जागृत हो गया ये एकन्नी मैंने अपनी मेहनत से तो कमाई नहीं है तो ये मेरी कैसे हुई।  ये भूल से मेरे पास आ गई है।”

चने खाकर उन्होंने पानी पिया और सीधे उस चने वाले के पास गये और बोले-

“क्यूँ भाई तुमने मुझे एकन्नी के चने दिए और एक एकन्नी भी उन चनों के साथ डाल दी अगर ऐसा करोगे, तो कैसे कमाओगे ?”

चने वाला जब तक कुछ समझ कर बोल पाता तब तक वे एकन्नी देकर वह वापस हो गए। अब चने बेचने वाला हाथ में रखी एकन्नी को देखता कभी उस नौजवान को सडक पे जाते हुए देखता।

सच पूछा जाए तो चने वाला मन ही मन उनकी प्रशंसा कर रहा था।

दोस्तों…जो भी  महान व्यक्ति महान हुए हैं वो इसलिए महान हुए क्योंकि उन्होंने सारा जीवन महान कर्म किये।

इसतरह चंद्रशेखर आज़ाद भी हमारे देश के लोगों दिल में प्रेरणास्रोत बनकर जीवित हैं।

 

Friends अगर आपको ये Post “चंद्रशेखर आज़ाद की ईमानदारी Short Hindi Story of Chandrshekhar Aazad” पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते है.

कृपया Comment के माध्यम से हमें बतायें कि आपको ये  Story “चंद्रशेखर आज़ाद की ईमानदारी Short Hindi Story of Chandrshekhar Aazad” कैसी लगी

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

ये भी जरुर पढ़ें:

खुश रहने का राज़ हिंदी कहानी

dediction is necessary hindi story

सच्चा धर्म हिंदी कहानी

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. बहुत ही प्रेरणादायक कहानी। हमें हमेशा सच्चाई के राह पर चलना चाहिये।

  2. बहुत ही अच्छा post hai. Vande maatram

  3. Very Awesome Information Priyanka, Thanks For Sharing.

  4. ऐसे देश्भक्त होना आज के समय में नामुमकिन है
    वंदेमातरम्
    जय हिन्द
    जय भारत

  5. wow nice story. maine chandrashekhar aazad ji ke baare me bahot padha hai par is kahani ko pahali bar padh raha hu. isliye thanks

Speak Your Mind

*