Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

What is the difference between ego and self respect in Hindi

आत्मविश्वास  और अभिमान में अंतर

difference between ego and self respect in Hindi

difference between ego and self respect in Hindi

difference between ego and self respect in Hindi

ये इतना बड़ा Question है, जिसका सही Answer मिलना बहुत मुश्किल है। फिर भी मैं Simplify करने की कोशिश कर रही हूँ।

Friends एक Ego होता है और एक होता है Self respect इन दोनों के बीच एक बहुत ही Thin लाइन होती है। कब हमारा Ego-Self respect बन जाता है और कब हमारा self Respect- Ego बन जाता है हमें खुद पता नहीं चलता।

दोस्तों जब भी आपको अपमान महसूस होने लगे। आप समझ जाइये कि आपके अन्दर अभिमान ने जन्म ले लिया है। और इस अभिमान का नाम आजकल सभी ने दे दिया है Self respect।

जितना बड़ा अभिमानी होगा उतनी ही उसके अन्दर अपमान की भावना होगी। मैं की भावना ही Ego को जन्म देती है, उसके पीछे-पीछे क्रोध और अशांति आती है।

ऐसा बिलकुल भी जरुरी नहीं है कि आपके आसपास जो लोग हैं वो सब आपको Respect करें, चाहे वह आपके Relation में हों, Friends हों, Profession relational में हों।

हर किसी को आपके विचार और व्यवहार पसंद आये ऐसा Possible नहीं है। उनमें से कई लोग होंगे जो आपके साथ होंगे। आपको Respect करेंगे। कुछ ऐसे भी  लोग होंगे जो आपको Respect नहीं करेंगे, चाहे आप जो भी हों या जितने भी बड़े पद पर हों या आप एक गरीब इंसान हों।

सभी आपको Respect करें ऐसा नहीं हो सकता, तब जरुरी है आपके अन्दर Self respect हो। अगर आप खुद अपना Respect करेंगे, तो आपको किसी के भी कुछ कहने से कोई फ़र्क नहीं पड़ेगा।

लेकिन इसका ये मतलब बिलकुल नहीं है कि आपसे कोई भी आकर कुछ कह दे और आप चुप होकर सुनते रहें। Self respect का मतलब है कि आप बिना Disturb हुए अपनी बात कह सकें। अपनी बात जरुर कहें, लेकिन आपको गुस्सा न आये। आप Stable रह सकें। अपने आपको हीन न समझें।

मेरी नज़र में Self respect का मतलब अभिमान का न होना है। जब अभिमान नहीं होगा तब हमें अपमान महसूस नहीं होगा। जब किसी की कोई बात बुरी लगेगी, तब हम समझ पाएंगे कि हम क्या हैं और साथ ही ये भी समझ पाएंगे, ये  उस व्यक्ति का  मेरे बारे में सिर्फ एक Opinion है।

Friends हमें हमेशा अपनी नज़रों में ऊपर उठना चाहिए ताकि हम खुद से नज़र मिला सकें। यही  सही मायनों में आत्मसम्मान है।

 

Friends अगर आपको ये Post “difference between ego and self respect in Hindi”  पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं और Comment भी कर सकते हैं।

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

ये भी जरुर पढ़ें :-

Think about Solution

आत्मविश्वास ले जाता है सफलता की ओर

 क्षमा करना क्यों ज़रूरी है

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. Very nice post. I enjoyed it reading. Write more like this

  2. Munfait choudhary says:

    I really like your explanation, great job. Priyanka ji

  3. Bhola Shankar says:

    Yes very nice explaination . Thanks

  4. Per in sabhi se kya confidence me kami aa sakti hai.

Speak Your Mind

*