Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

ख्वाईशों का क्या है ये तो कम नहीं होती ।। ख्वाइश पर कविता

ख्वाइश पर कविता

ख्वाईशों का क्या है ये तो कम नहीं होती ।। ख्वाइश पर कविता

ख्वाईशों का क्या है ये तो कम नहीं होती ।। ख्वाइश पर कविता

ख्वाईशों का क्या है

ये तो कम नहीं होती

परेशां कर देती हैं ये इनकी

आदत खतम नहीं होती

 

एक के ख़तम होते ही

नयी का  जनम होता है

बस एक के बाद एक

इनकी फितरत ख़तम नहीं

 

सबकुछ होते हुये भी बेवजह

एक एक कमी रहती है

दमे- आखिर तक इनकी

बहशत ख़तम नहीं होती

 

रब खैर करे उसकी जो

पूरा करने में जुट जाए रात दिन

रास्ता चलता जाता है बस

इनकी मंजिल ख़तम नहीं होती

 

इस कविता का विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें.

 

 

 

Friends अगर आपको ये Post “ख्वाईशों का क्या है  ये तो कम नहीं होती ।। ख्वाइश पर कविता” पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं.

कृपया  Comment के माध्यम से हमें बताएं आपको ये Poetry कैसी लगी.

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

ये भी जरुर पढ़ें :-

अच्छी सूरत के साथ अच्छी सीरत भी होना चाहिए हिंदी कविता 

वक्त और हालत बदल देते हैं सबकुछ हिंदी कविता 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. Aaj Ek nayi subah k saath, naye alfaazo ko sanjoye aap ki ek aur kavita mere paas thi..
    Priyanka di…aap bahut achcha likhti h…mai bhi likhti hu kabhi-kabhi.. Per abhi medical ki tests frequently hone se taras jati..
    Per aapki poems ko padh k..mujhko achcha feel hota..
    Thank you di…

  2. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति …. very nice article …. Thanks for sharing this!! 🙂

  3. बहुत अच्छी प्रस्तुति.

    “जिंदगी में किसी का साथ काफी है…
    कंधे पर किसी का हाथ काफी है.
    दूर हो या पास फर्क नहीं पड़ता
    सच्चे रिश्ते का बस एहसास ही काफी है.”

  4. Priyanka ji aapne bahut acchi kavita likhi hai aapne to mere dil ko chhu liya ..Boliye mai apake liye kya kar sakti hu…

  5. Priyanka JI aap mujhe ek baat bataiye ki aapne abhi tak profile par picture kyon nahi set kiya hai.

    Kya apko pata hai blogger ki ye ek pahchan hoti hai …

  6. priyanka talekar says:

    very good poem, aise hi apki manjil hamesha chalti rhe…..

  7. Prabhu jaishiya says:

    Very good

  8. Hi
    Yahi Kuch sab chahta Haan magar itna Kuch aap Kuch he shbadoon main explain kar deti haan .
    Kafi accha kahaan apney sab Yahi Bhag daud main Haan
    Kaaamal likha kamaal

    • Thank you,
      Hamei hamesha life me aage badhna chahiye. Har Khwaishon ke peeche bhagenge, to shayed aage nahi badh payenge kyunki khwaishein kabhi khatm nahi hoti.

Trackbacks

  1. […] ख्वाईशों का क्या है ये तो कम नहीं होती  […]

Speak Your Mind

*