Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

कठिन परिश्रम The most inspirational story about hard work in Hindi

कठिन परिश्रम 

The most inspirational story about hard work in Hindi

कठिन परिश्रम The most inspirational story about hard work in Hindi

कठिन परिश्रम The most inspirational story about hard work in Hindi

एक बार की बात है, एक आदमी था। उसके पास एक गधा था। वह गधा हमेशा उदास रहता था। उसे इस बात का दुःख था कि उसका मालिक उसके ऊपर कपड़ों की भारी-भारी गठरियाँ लादकर तालाब पर धोने  के लिए ले जाता है। धोने के बाद उन भारी कपड़ो को गधे की पीठ पर लादकर घर भी वापस लाता था। काम  की वजह से वह हमेशा उदास रहता था।

एक तरफ मालिक उस गधे का पूरा ख्याल रखता था। उसके खाने के लिए हरी-हरी घास लाता था। फिर भी गधा हमेशा मुंह लटकाये रहता था। मालिक समझ नहीं पा रहा था कि इतना सबकुछ करने के बाद भी ये प्रसन्न नहीं दिखता।

एक बार गधा अपनी पीठ पर कपड़े की गठरी लादे चला जा रहा था। वही से एक महर्षि गुजर रहे थे, उन्होंने देखा, गधे के पास से एक चीटीं भी चीनी की डली लेकर जा रही थी। वे चीटी को देखकर रुके और झुककर चीटी को प्रणाम किया।

गधा यह देखकर आश्चर्य में पड़ गया। उसने सोचा कि आखिर ये महर्षि इस चीटी को प्रणाम क्यूँ कर रहे हैं ?

महर्षि बोले-यह चींटी कर्मयोगी है। यह कितना मन लगाकर अपना काम कर रही है और इतनी छोटी होने के बाबजूतअपने मुँह में चीनी की कितनी बड़ी डली दबाकर चल रही है। बस यही देखकर मैंने इसे प्रणाम किया।

गधा महर्षि से बोला- यह तो अन्याय है, इससे ज्यादा बोझ तो मैंने उठाया हुआ है तो कर्मयोगी तो मुझे होना चाहिए।

महर्षि ने मुस्कुराते हुये जबाब दिया- कि तुमने उसके और अपने ऊपर लादे गए बोझ को तो जल्द ही देख लिया मगर क्या तुमने अपने और चीटी के आकार का अंतर देखा ?

जरा देखो, वह जितनी है उतनी ही चीनी की डली अपने मुँह में दबाकर प्रसन्नतापूर्वक अपने कार्य को कर रही है। जबकि तुम्हारे चेहरे पर काम का बोझ साफ़ नज़र आरहा है। जो अपने काम को बोझ समझकर करता है, वह कर्मयोगी नहीं कहलाता बल्कि जो अपने काम को अपना दायित्व समझकर ख़ुश होकर करता है, वह कर्मयोगी है.

इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि हमें अपने कार्य को हमेशा खुश होकर करना चाहिए. काम को बोझ समझकर करने से हमारी ख़ुशी चली जाती है और आसान काम भी कठिन हो जाता है जबकि, काम को अपना दायित्व समझकर करने से मुश्किल काम भी आसान हो जाता है और हम खुश रहते हैं.

Friends अगर आपको ये Post “कठिन परिश्रम  The most inspirational story about hard work in Hindi” पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते है.

कृपया Comment के माध्यम से हमें बतायें आपको ये Post “कठिन परिश्रम The most inspirational story about hard work in Hindi” कैसी लगी.

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

ये भी जरुर पढ़े :-

अब्राहिम लिंकन का सरल स्वभाव

ताली एक हाथ से नहीं बजती

रंग लाई ईमानदारी

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. nice story

  2. Very good and inspiring

Speak Your Mind

*