Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

कभी कभी अपनी परछाई से भी डर लगता है Emotional Hindi Poetry on shadow

कभी कभी अपनी परछाई से भी डर लगता है

Emotional Hindi Poetry shadow

कभी कभी अपनी परछाई से भी डर लगता है Emotional Hindi Poetry on shadow

कभी कभी अपनी परछाई से भी डर लगता है Emotional Hindi Poetry on shadow

कभी कभी अपनी परछाई से भी डर लगता है
मौत से भी ज्यादा जिन्दगी से डर लगता है

सफर में आगे बढ़ तो रहे हैं हम
तन्हाई से भी ज्यादा भीड़ से डर लगता है

हर कदम पे अपने ही करते हैं छलावा
दुश्मनों से भी ज्यादा दोस्त से डर लगता है

तमाम उम्र गुजार दी नेकियों में हमने
नफरत से भी ज्यादा प्यार से डर लगता है

धोखा हर एक इंसान से खाया है इसकदर
वेवफा से भी ज्यादा वफादार से डर लगता है

ये मतलब परस्त लोग और उनकी कहानियाँ
फरेबी से भी ज्यादा जिम्मेदार से डर लगता है

कर दिया है सीना छलनी इन वारदातों ने
अब हैवान से भी ज्यादा इंसान से डर लगता है

 

इस शायरी का विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें.

 

FOR VISIT MY YOU TUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

Friends अगर आपको ये Post “कभी कभी अपनी परछाई से भी डर लगता है Emotional Hindi Poetry on shadow”  पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं.

कृपया Comment के माध्यम से हमें बताएं आपको ये Post कैसी लगी।

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. Dheeraj says:

    Hi
    baakamaal asliyaat ha ye jindagi ki
    Great mam

  2. wahh ji waah.. true feelings.
    plz share

  3. महेश says:

    बहुत ही खूब और कमाल का लिखा है , लाजवाब

Speak Your Mind

*