Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

क्या सबब है कुछ फीका फीका सा है समां

क्या सबब है कुछ फीका फीका सा है समां Emotional Hindi Poetry

क्या सबब है कुछ फीका फीका सा है समां Emotional Hindi Poetry

क्या सबब है कुछ फीका फीका सा है समां Emotional Hindi Poetry

क्या सबब है कुछ फीका-फीका सा है समां

क्या वजह है कि कुछ रुका रुका सा है ये जहाँ

 

ख्वावों में भी शायद  तन्हाई है यहाँ-वहाँ

दिल के अन्दर थम सा गया है आसमां

 

दिन से रात, रात से दिन गिनते-गिनते

उम्मीदें बोझिल सी हो रहीं हैं बारहां

 

इस तारीकी का चलो आज क्या कहना

इसमें चमकते जुगनुओं की है ये दास्ताँ

 

चमकते हुए तारों को देखो तो आसमां में

आकर बादलों ने क्यूँ मिटा दिया है इनका निशां

 

खुद ही तो इन्त्ख्वाव किया ग़म ए इश्क़ का रास्ता

तो क्या हुआ जो मुश्किलें मिल रहीं हैं जाबजा

 

तारीकी- अँधेरा

इन्त्ख्वाव-चुनना

 

इस कविता का विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

 

Friends अगर आपको ये Post Emotional Hindi Poetry पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं और Comment भी कर सकते हैं।

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

ये भी जरुर पढ़ें:-

हौंसला रख आगे बढ़ने का

उम्मीदें हसरतें ख्वाईशें तो बस

कोई शिकायत नहीं मुझे ये खुदा तुझसे

 

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. Sabab toh tha kuch fika-fika,magar alfaazo ka sanjo k jadu,
    kisi ne ehsaas badal diye,
    hum toh the tanha se yahan,tabhi kisi ne aa kreeb yu mere jazbaat badal diye…
    Really beautiful priyanka di..heart touching.. ..ek poet ki agar tareef karne ho toh kuch aise likh k ki jaye jisse wo khush ho,appreciate ho..aisa mai sochti..isiliye aapko likh k wish kiya..good luck..

  2. Sultan Ahmad says:

    Besahk bhut sandar post h mashaallah. kya khna.dil ko chu gay

  3. Sultan Ahmad says:

    plz fb pr b post kigiye aur hme frend k list samil kigiye thora ishq k ghraiyo ko aur byan kigiye k ishq h kya.muhabbat aur ishq m fark bataiye. Kuch sayery ya gzl me.plz rply me.

  4. thanks…

Speak Your Mind

*