Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

तेरा घर ना मेरा ठिकाना The Most inspirational Hindi Poetry on woman

तेरा घर ना मेरा ठिकाना

The most inspirational Hindi Poetry on woman

The most inspirational Hindi Poetry on woman

The most inspirational Hindi Poetry on woman

मै हूँ एक चिड़िया सी बाबा

तेरा घर ना मेरा ढिकाना

चुग के अपने हिस्से का दाना

एक दिन मुझे दूजे घर जाना

 

फ़िर क्यों ना  मुझे तू जीने देता

अपने पंख फेलाने देता

तेरा सहारा बन जाऊँगी

हर मुश्किल को सह जाउंगी

 

फ़िर क्यों ना मूझे एक सागर देता

तेरी कश्ती बन जाऊँगी

पार ख़ुशी से कर जाऊँगी

बस मुझसे तू इतना कह दे

तू बस  मेरे साथ है हर दम

पत्थर गरआये  रस्ते में

उस पत्थर से लड़ जाऊँगी

 

बस मुझे तू एक आसमान दे

अपने पंख फ़ैलाने को

ग़मों की आंच न आने दूँगी

मैं खुद पहले  जल जाउंगी

तेरी राह का हर एक पत्थर

बन के लाठी हटाऊँगी

तेरे कदम से कदम मिलाकर

पार मैं नैया कर जाउंगी

 

क्यूँ तू मुझको बोझ समझता

बोझ ये दूजे के सर  ढोता

मुझको तू एक बात बता दे

क्यूँ मुझको दूजे घर जाना

क्यूँ ये घर ना मेरा ठिकाना

जिसने है ये नियम बनाया

मुझको बस उससे लड़ जाना

 

मेरे सपने मेरे अपने

क्यूँ इनको मैं छोड़ के जाऊं

मैं हूँ एक चिड़िया सी बाबा

तेरा घर ही मेरा ठिकाना

मैं हूँ एक चिड़िया सी……

 

Neetu Yadav

Profession -Advocate
Jaipur city
Profession -advocate
Email Id:-neetuyadavanny@gmail.com

Friends अगर आपको ये Post “The most inspirational Hindi Poetry on woman” पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं और Comment भी कर सकते हैं।

We are grateful to Neetu for sharing this beautiful Poetry with us.

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

ये भी जरुर पढ़ें:-

माँ हिंदी कविता

नारी का सम्मान

आखिर क्यों नहीं चाहते लोग बेटी

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. Wah kya baat hai. Mujhe apne high school ke din yaad aa rhe

  2. Kaas har koi ise padhte or jesaa aapne likhaa use samjhte

Speak Your Mind

*