Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

कभी कभी अपनी परछाई से भी डर लगता है Emotional Hindi Poetry on shadow

कभी कभी अपनी परछाई से भी डर लगता है Emotional Hindi Poetry shadow कभी कभी अपनी परछाई से भी डर लगता है मौत से भी ज्यादा जिन्दगी से डर लगता है सफर में आगे बढ़ तो रहे हैं हम तन्हाई से भी … [Read more...]

कैसे कहुँ कि प्रेम क्या है प्रेम पर हिन्दी कविता Love Hindi Poem

कैसे कहुँ कि प्रेम क्या है प्रेम पर हिन्दी कविता Love Hindi Poem भटकने से मंजिल नहीं मिलती ठहरने से रास्ते नहीं कटते "प्रेम" कैसे कहुँ,-कि प्रेम क्या है ? सिवाय बदनामी के - इस प्रेम में … [Read more...]

स्त्री पुरुष मित्रता हिन्दी कविता Hindi poem on men and woman friendship

स्त्री पुरुष मित्रता हिन्दी कविता Hindi poem on men and woman friendship चलो आज मान ही लेती हूँ नहीं हो सकती कभी भी, स्त्री पुरूष में स्वस्थ मैत्री -   इन संबधों में, हमेशा आ … [Read more...]

दुनिया कहाँ से कहाँ निकल गई Hindi Poems | Kavita | Famous Poetry in Hindi हिंदी शायरी

दुनिया कहाँ से कहाँ निकल गई Hindi Poems | Kavita | Famous Poetry in Hindi  हिंदी शायरी दुनिया कहाँ से कहाँ निकल गई मैं आज भी वहीं का  वहीं खड़ा हूँ परिवर्तन ही प्रकृति का नियम है फिर भी … [Read more...]

मैंने चाहा था चलना आसमानों पे हिंदी कविता Hindi Poetry for courage

मैंने चाहा था चलना आसमानों पे हिंदी कविता Hindi Poetry for courage मैंने चाहा था चलना आसमानों पे मगर चाँद ने रास्ता रोक लिया, मंज़िल के आने से पहले रास्ते में मुझको टोक … [Read more...]

क्या होगा अगर लिख दूँ Motivational short poems Hindi

क्या होगा अगर लिख दूँ Motivational short poems Hindi क्या होगा अगर लिख दूँ कुछ अनकहा और नया सा न घड़ी टिक टिक - बन्द होगी न साँसों की ये आवाज और ये दर्द जो रेंग रहा है गर्दन से कमर … [Read more...]