Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

राहे मोहब्बत में मंजिल की तलाश ना कर Love Hindi poetry

राहे मोहब्बत में मंजिल की तलाश ना कर

Love Hindi poetry

राहे मोहब्बत में मंजिल की तलाश ना कर Love Hindi poetry

राहे मोहब्बत में मंजिल की तलाश ना कर Love Hindi poetry

राहे मोहब्बत में,

मंजिल की तलाश ना कर

दिल टूट जाये तेरा,

इतना भी एतियात ना कर

 

दर्द कहीं नासूर बन ना जाये तेरा

ऐसी कोई करामत ना कर

 

उलझनों में उलझ के फँस जाए तू

ऐसा कोई भी ऐतबार ना कर

 

दिल में जो जल रहा है,

किसी की चाहत का दिया

उस दिए की खातिर,

अपने दिन को भी रात ना कर

 

सबब कुछ तो होगा तेरी

तिश्नगी का शायद

दमे आखिर तक,

बला ए इश्क को एहसास ना कर

अपनी मंजिल का तसब्बुर,

कर अपने दिल में

अपनी मंजिल का पता,

जाबजा ना कर

 

 

दमे आखिर- आखिरी दम

बला ए इश्क- प्रेम का दुःख

जाबजा- जगह जगह

 

इस कविता का Video देखने के लिए यहाँ क्लिक करें।

 

Friends अगर आपको ये Post “राहे मोहब्बत में मंजिल की तलाश ना कर Hindi poetry”  पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं.

कृपया Comment के माध्यम से हमें बताएं आपको ये Post कैसी लगी।

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. प्रियंका जी आपकी हर पोएम में दम होता है. आप मेरी साईट पर भी कुछ लिखें.

  2. Dheeraj says:

    Hi great thought

Speak Your Mind

*