Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

value of earning inspirational Hindi story on earn money

Value of earning

Inspirational Hindi story on earn money

value of earning inspirational Hindi story on earn money

value of earning inspirational Hindi story on earn money

 एक बार की बात है, एक बुजुर्ग थे। वे हमेशा सभी को अच्छी शिक्षा देते रहते थे एक आदर्श जीवन के बारे में बताते रहते थे। उनक एक मित्र था जिसकी मृत्यु कुछ समय पहले ही हुई थी। उनका जो मित्र था उसका एक पुत्र था। बुजुर्ग उसे बचपन से जानते थे। उनका पुत्र बड़ा ही संस्कारी था। लेकिन थोड़ा गैरजिम्मेदार और आलसी था। बुजुर्ग अच्छी तरह जानते थे कि वह अपने पिता की सम्पत्ति का दुरूपयोग ही करेगा और उसे समाप्त कर देगा।

इसी चिंता में वह अपने मित्र के घर गये। मित्र का पुत्र उन्हें जानता था और उनका बहुत सम्मान भी करता था। उसने आदर के साथ उन्हें बिठाया और बोला – कुछ दिनों बाद दीवाली आने वाली है। आप उस दिन हमारे घर भोजन करने अवश्य पधारे। उस दिन हमारे घर पर भोज है। बुजुर्ग ने कुछ सोचा और हाँ कर दी।

कुछ दिनों बाद दीवाली आई। दीवाली के दिन वह बुजुर्ग अपने मित्र के घर पहुंचे वहाँ जाकर उन्होंने देखा कि मित्र का पुत्र धन उड़ाने में व्यस्त है। बुजुर्ग के बैठते ही स्वादिष्ट भोजन उनके सामने परोसा गया।  मित्र का पुत्र उनका सम्मान करने वहीं आकर खड़ा हो गया, चूँकि वह पिता के मित्र थे, इसलिए वह उनका विशेष तौर पर ध्यान रख रहा था।

जैसे ही बुजुर्ग ने पहला कौर मुंह में लिया तत्काल उनके मुंह से निकला अरे ये तो बहुत ही बासी भोजन है। मित्र का पुत्र चौंक गया उसने कहा भोजन अभी तैयार किया गया है बासी हो ही नहीं सकता। बुजुर्ग बोले मुझे तो इसमें वर्षों पुरानी गंध आ रही है। मित्र का पुत्र बुजुर्ग की बात का अर्थ समझ गया। वे ये कहना चाहते थे कि यह भोजन जिस धन से बनाया गया है। वह तुम्हारे पिता के द्वारा कमाया गया था।

बुजुर्ग ने मित्र के पुत्र को पास बुलाया और कहा- जिस दिन तुम अपने  द्वारा कमाये गए धन से निर्मित भोजन मुझे करवाओगे। उस दिन मुझे इससे भी ज्यादा ख़ुशी होगी। उस धन से जो भोजन बनेगा, उसकी ताजगी ही अलग होगी। उनकी बात सुनकर मित्र का पुत्र बोला- आपकी बात का आशय मैं समझ गया।  मुझे अपने परिश्रम से स्वयं धन अर्जित करना चाहिए।  अब मैं  आपको तभी निमंत्रण दूंगा जब मेरे भोजन में ताज़ा सुगंध आयेगी।

हमें खुद परिश्रम करके धन कमाना चाहिए।पूर्वजों की सम्पति मिलना सोभाग्य की बात है। मगर हमारा कर्तव्य है कि हम उसे बर्बाद ना करें बल्कि हमें उसका सदुपयोग  करना चाहिए और उसमें वृद्धि करने की कोशिश करनी चाहिए।

 

Friends अगर आपको ये Post ”value of earning inspirational Hindi story on earn money” पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं.

कृपया Comment के माध्यम से हमें बतायें आपको ये Post “Inspirational Hindi story on earn money” भी कर सकते हैं।

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

ये भी जरुर पढ़ें :-

अब्राहम लिंकन का सरल स्वभाव 

अपने सोचने का तरीका बदलें 

डर के आगे जीत है हिंदी कहानी 

 

 

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. बहुत ही सुन्दर कहानी….
    वाकई आज के समय में बहुतों के द्वारा ऐसा किया जा रहा है.. धन का महत्व वही व्यक्ति समझ सकता है जो अपनी मेहनत से धन अर्जित करता है.. आपकी स्टोरी के माध्यम से लाखों लोगों को एक अच्छी सीख मिलेगी दीदी..
    आभार

  2. Phnonmeeal breakdown of the topic, you should write for me too!

  3. Inspiration for all .??

Trackbacks

  1. […] खुद कमाए गए पैसों की कीमत  […]

Speak Your Mind

*