Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

मैं हूँ या नहीं हूँ हिंदी कविता Inspirational Hindi Poetry on myself

मैं हूँ या नहीं हूँ हिंदी कविता

Inspirational Hindi Poetry on myself

मैं हूँ या नहीं हूँ हिंदी कविता Inspirational Hindi Poetry on myself

मैं हूँ या नहीं हूँ हिंदी कविता Inspirational Hindi Poetry on myself

मुझे खबर नहीं है

कि मैं हूँ या नहीं हूँ

कभी लगता है कि मैं हूँ और

कभी लगता है कि मैं नहीं हूँ

 

कभी जब देख नहीं पाती

आखों के सामने का मंजर

जब कभी खो सी  जाती हूँ

कभी अपने ही अन्दर

जागते हुए भी तसब्बुर

किसी और दुनिया का

 

कभी लगता है कि मैं हूँ और

कभी लगता है कि मैं नहीं हूँ

 

कभी जब देख नहीं पाती

इस दुनिया के ग़मों को

ये गरीबी ये मायूसी

ये मतलब परस्त लोग

घर से कभी निकलूं तो

मलाल होता है चंद रोज़

कुछ न कर पाने की चुभन

और हसरत कुछ करने की

अगले ही पल भूल जाना सब इस तरह

जिस तरह कुछ हुआ ही नहीं

 

कभी लगता है कि मैं हूँ और

कभी लगता है कि मैं नहीं हूँ

 

हूँ या नहीं हूँ ये और बात है मगर

दुनिया के गमों से मैं शर्मसार हूँ

कैसे मिटा दूं  दिलों के फासले

साथ चलने लगें सारे काफिले

फिर अचानक याद आता है 

ये है वही जिन्दगी जिसमें

मैं कभी हूँ कभी नहीं हूँ

 

कभी लगता है कि मैं हूँ और कभी लगता मैं नहीं हूँ…

 

इस कविता का विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें…

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

ये भी जरुर पढ़ें:

Secret of Happiness

Stop Thinking and do someting

शिक्षित होने का सही मतलब

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. Heart Touching Lines 🙂

  2. Hi
    Firrrr
    Se kamaaal Haan main bhi Socha Hoon key aab likhana dikha chahiye Galt Sahi magar shbd ja Jo aap piroti Haan is main to kai saal lag karenge magar kamaaal Haan mam

Speak Your Mind

*