Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

हर दिन नया दिन Hindi story on be in present

हर दिन नया दिन

Hindi story on be in present

हर दिन नया दिन Hindi story on be in present

हर दिन नया दिन Hindi story on be in present

 

बहुत पुरानी बात है। बौद्ध धर्म के एक गुरु थे। लोग उनके पास अपनी समस्यायें लेकर जाते थे।

वे सबसे बड़ी उदारता से मिलते थे, लोगों की समस्याओं को सुनते थे, और उनका समाधान भी निकालते थे। उनके दर्शन के लिए दूर- दूर से लोग आते थे।

उनके पास दार्शनिकों की भीड़ लगी रहती थी। सभी लोग उनकी प्रशंसा करते थे। उनकी प्रशंसा सुनकर एक ग्रामीण व्यक्ति बहुत प्रभावित हुआ।उनके दर्शन के लिये आश्रम पहुंचा।

“उस व्यक्ति ने स्वामी जी से एक प्रश्न पूछा ?”

 

“स्वामीजी ने उस प्रश्न का जबाब दे दिया”

जब उस व्यक्ति ने घर पहुंचकर सोचना शुरू किया, तो उसके मन में अनेक शंकायें उत्पन्न हुयीं।

“दूसरे दिन वह फिर स्वामी जी के पास पहुँचा “

इस बार भी स्वामी जी ने बड़े ही शांत मन से फिर से समाधान बताया, पर वह व्यक्ति बहुत ही हैरान हुआ, क्योंकि यह समाधान पहले दिन बताये गए समाधान से एकदम विपरीत था।

इस बात पर वह व्यक्ति क्रोधित हो गया।

उसने कहा- “स्वामीजी कल तो आपने कोई और समाधान बताया था, आज कोई और समाधान बता रहे हैं। वह भी पहले बताये गए समाधान से बिल्कुल विपरीत”।

“आप क्या लोगों को वेवकूफ बना रहे हैं”, आखिर आप ये सब क्यों कर रहे हैं ?

स्वामी जी ने उस व्यक्ति की बातें सुनी, मगर उसके क्रोध से तनिक भी विचलित नहीं हुये।

स्वामी जी ने मुस्कुराते हुए  उस व्यक्ति से कहा-

“जो मैं कल था, वह मैं आज नहीं हूँ, कल वाला मैं तो कल के साथ ही समाप्त हो गया, मैं तो आज का नया व्यक्ति हूँ।”

स्वामी जी उसे समझाते हुए बोले –

“कल परिस्थितियाँ कुछ और थी। आज की परिस्थितियां अलग हैं। जब आज मैं नया हूँ तो कल की समस्या का समाधान  कल की तरह क्यों करूँगा।”

अगर तुम ये बात समझ लो और पुरानी बातों को भूल जाओ। तुम अगर हर दिन को एक नया दिन समझोगे, तो तुम्हारी समस्या का समाधान खुद व खुद हो जाएगा।

 

FRIENDS… इस कहानी से यह शिक्षा मिलती है, कि चाहे कैसी भी परिस्थितियां हों, हमें हर दिन को एक नया दिन समझ कर नये तरीके से हर समस्या का समाधान ढूँढना चाहिए।

हमें हमेशा Present में जीना चाहिए और Past की बातों को भुला देना चाहिए।

हर दिन को नया दिन समझ कर हर दिन नया दिन महसूस करना चाहिए। बीते हुए कल में जीकर हम किसी समस्या का समाधान नहीं कर सकते।

 

Friends अगर आपको ये Post ”हर दिन नया दिन Hindi story on be in present” पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं और Comment भी कर सकते हैं।

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. nice story priyanka ji

  2. Hanji bilkul shi, bahut achhi lekh hai Feeling Motivated

  3. Sanjeet Nagyan says:

    nice blog very nice post

  4. आपकी यह कहानी बहुत अच्छी लगी। बहुत बढ़िया सन्देश था.

  5. छाया रानी says:

    उद्देश्य वर्तमान के लिए सही एवं सटीक

Speak Your Mind

*