Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Hindi Poetry on eyes एक लम्बा सा सफर तय करके थक गयीं हैं मेरी आँखे

Hindi Poetry on eyes एक लम्बा सा सफर तय करके  थक गयीं हैं मेरी आँखे

Hindi Poetry on eyes एक लम्बा सा सफर तय करके थक गयीं हैं मेरी आँखे

Hindi Poetry on eyes एक लम्बा सा सफर तय करके थक गयीं हैं मेरी आँखे

एक लम्बा सा सफर तय करके

थक गयीं हैं मेरी आँखे

कल तक जो सब नया- नया सा लगता था

सब पुराना सा हो गया है

या फिर पुरानी सी हो गयीं हैं मेरी आँखे

 

कल तक ख्वाव देखती रहतीं थी मेरी आँखें

आज हकीकत में चुपके से झांकती हैं मेरी आँखें

 

ख्वाव भी बदले हुए से एहसास भी बदले हुए से

या फिर बदल गयीं हैं मेरी आँखे

 

कल तक जिन आँखों में रहते थे मोती छोटे छोटे

आज सैलाब सी लग रहीं हैं मेरी आँखें

आँसू कुछ ग़म के कुछ खुशियों के

या फिर ग़मगीन हो गयीं हैं मेरी आँखे

 

पहले कुछ खोयी हुई सी रहती थीं

जागते हुए भी सोयी हुई सी रहती थीं

अब तसब्बुर ही कुछ और है

सपनों की भी एक डोर है

या फिर कुछ ज्यादा हसीन हो गयीं हैं मेरी आँखे

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

Friends अगर आपको ये Post ” Hindi Poetry on eyes एक लम्बा सा सफर तय करके थक गयीं हैं मेरी आँखे   ”  पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं.

 कृपया Comment के माध्यम से हमें बताएं आपको ये पोस्ट  कैसी लगी.

 

 

 

 

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. Nice article Priyanka aap ne bahut achi or useful Information share ki hai.

  2. Beautiful

Speak Your Mind

*