Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

मायूसी पर हिंदी कविता Hindi Poetry on disappointment

मायूसी पर हिंदी कविता

Hindi Poetry on disappointment

मायूसी पर हिंदी कविता Hindi Poetry on disappointment

मायूसी पर हिंदी कविता Hindi Poetry on disappointment

मायूसियों से कह दो भूल गया  हूँ  उनको

वो दर्द जिसे कभी सहने से भी डरता था

उस दर्द से दोस्ती सी हो गई है अब तो

खुश रहने की आदत सी हो गई है अब तो

 

मुझे आजमाने की कोशिश न कर ए जमाना

इतना आसान भी नहीं अब  मुझको हराना

हार जायेंगे ये दुनिया वाले मुझसे
नफरतों  से भी मोहब्बत हो गयी अब तो

हारने से पहले ही हिम्मत की है  हारने की
हार और जीत से दोस्ती हो गयी है अब तो

जिंदगी जिंदादिली का नाम है दोस्तों
जिंदगी से मोहब्बत हो गयी है अब तो

नसीब लिखा है  बुलंद इरादों से अपना
नसीब से भी तो  दोस्ती हो गयी अब तो

 

We are grateful to Mr Anil sahu  for sharing this beautiful poetry.

अनिल साहू

Blog: www.hindisuccess.com

          www.edutoday.in

 

Friends अगर आपको ये Post ”मायूसी पर हिंदी कविता Hindi Poetry on disappointment” पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं.

कृपया Comment के माध्यम से हमें बतायें आपको ये Post कैसी लगी।

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

ये भी जरुर पढ़ें:-

माँ हिंदी कविता

नारी का सम्मान

आखिर क्यों नहीं चाहते लोग बेटी

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. Thanks Priyanka Ji.

  2. Hi Priyanka Ji,
    Bahut achhi poetry share ki hai Anil G ne
    main bhi poetry share karna chahta hoon kaise bataye pls
    thanks

Speak Your Mind

*