Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Hindi Poetry on Coincidence इत्तेफाक पर हिंदी कविता

Hindi Poetry on Coincidence 

इत्तेफाक पर हिंदी कविता 

Hindi Poetry on Coincidence इत्तेफाक पर हिंदी कविता

Hindi Poetry on Coincidence इत्तेफाक पर हिंदी कविता

होता नहीं है कुछ भी

कभी इत्तेफ़ाक से

इत्तेफ़ाक भी होता नहीं

कभी इत्तेफ़ाक से

 

जिन्दगी के किसी मोड़ पे

जब होता है ये एहसास

हर वाकिये की वजह

होती है कुछ खास

 

यूँ मुश्किलों का आना 

और आके चले जाना

होती नहीं है जीत

कभी इत्तेफ़ाक से

 

किस्मत की तो बात

करना फ़जूल है

ये होती नहीं मेहरबान

कभी इत्तेफ़ाक से

 

Friends अगर आपको ये  Post “Hindi Poetry on Coincidence  इत्तेफाक पर हिंदी कविता” पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं

कृपया  Comment के माध्यम से हमें बतायें आपको पोस्ट  कैसी लगी. 

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

ये भी जरुर पढ़ें:-

हौंसला रख आगे बढ़ने का

उम्मीदें हसरतें ख्वाईशें तो बस

कोई शिकायत नहीं मुझे ये खुदा तुझसे

 

 

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. your bloge is very nice ….

  2. Nice Poem

  3. Afzal shaikh says:

    Apne hoslo k bal par hum, apni pratibha dikha denge, bhale koi manch na de humko, hum manch apna bana lenge, Jo kehte khud ko sitara hai jagmaga kar unke saamne hi , chamak kar denge unki phiki or suraj khud ko bana lenge……

Trackbacks

  1. […] होता नहीं है कुछ भी कभी इत्तेफाक से […]

  2. […] होता नहीं है कुछ भी कभी इत्तेफाक से […]

Speak Your Mind

*