Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Protect yourself from negative News Hindi Article on news

Protect yourself from negative News

Hindi Article on news

Protect yourself from negative News Hindi Article on news

Protect yourself from negative News Hindi Article on news

 

Friends… हमारे देश में जो न्यूज़ दिखाई जाती है, उसमे 80% न्यूज़ Negative होती है। और वो सिर्फ एक News होती है। लोग देखते हैं कि आज यहाँ ये हुआ वो हुआ. और कुछ ही दिनों में भूल जाते हैं।

जो भी हुआ जिसके साथ भी हुआ, उसकी कोई मदद नहीं करता. उसका कोई निष्कर्ष नहीं निकलता। कुछ ही दिनों बाद वह न्यूज़ आनी बंद हो जाती है और एक नई News आती है।

इससे फायदा ये होता है कि लोगों को पता चलता है। देश में क्या-क्या हो रहा है और लोग सतर्क हो जाते हैं।

सोचने वाली बात ये है कि क्या वाकई में हमारे देश में Negativity इतनी ज्यादा है अच्छे लोग नहीं हैं। लोग अच्छा  काम नहीं कर रहे। ऐसा बिल्कुल नहीं है हमारा देश सभ्य और ईमानदार लोगों से भरा पड़ा है।

अगर आप और मैं अपने आसपास गौर से देखें तो 1% लोग भी ऐसे नहीं होंगे, जो किसी का Murder कर सकते हों। सिर्फ 1% ही ऐसी Family होंगी।  जिनके घर में कोई साजिश हुई हो या जिनकी लड़की के साथ छेड़छाड़ हुई हो। या किसी घर में अपने ही लोगों में आपस में अवैध सम्बन्ध हों।

लेकिन उन एक Percent लोगों की वजह से हमने 99% लोगों पर भरोसा करना छोड़ दिया है।

लोगों के दिलों में डर बैठ गया है। अपने ही घर में लोग अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं करते।

इसका कारण है कि सारा दिन न्यूज़ में हम वही सब देखते रहते हैं। सारा दिन हमारे दिमाग में वही सब Negative बातें चल रही होती हैं। हर इंसान को हम शक की नज़र से देखते रहते हैं।

ये सारी न्यूज़ लोगों को सतर्क करने के लिए आवश्यक जरुर है, लोगों को पता होना चाहिए कि देश में क्या हो रहा है। मगर इसका Ratio थोड़ा कम होना चाहिए।।

मेरा मानना है कि लोग जितना ज्यादा Positive News देखेंगे, उससे Inspire होंगे और कुछ अच्छा करने की कोशिश करेंगे।

हमारे देश में बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो अच्छा काम कर रहे हैं, पर उन्हें Highlight नहीं किया जाता।

लोगों ने एक दुसरे पर भरोसा करना बंद कर दिया है। सिर्फ एक डर के कारण लोगों ने एक दूसरे की मदद करना बंद कर दिया है।

हममें से कोई भी ऐसा नहीं है, जो गलत इंसान बनना चाहता हो। सभी एक अच्छा इंसान बनना चाहते हैं। समाज में इज्ज़त और सम्मान पाना चाहते हैं।

बचपन से ही हमारे दिमाग में बैठा है कि पेपर पढ़ना चाहिए News देखना चाहिए। हमारे बड़े बुजुर्ग हमेशा यही कहते थे कि News देखने से Knowledge बढ़ती है। वो बिलकुल सही कहते थे कि News देखने से knowledge बढ़ती है।

उस वक़्त बहुत ही कम पेपर हुआ करते थे और टेलीविज़न पर News आने का Time Fix होता था जिसमे हमें देश दुनिया की सारी ख़बरें बताई जाती थीं।

मगर आज अनगिनत पेपर हैं अनगिनत News चेनल हैं। और उनका आपस में Competition बहुत ज्यादा है।

आज 24 Hour न्यूज़ आती है, और लोग देखते भी हैं। इससे फायदा ये है कि आप जब भी Free हों न्यूज़ देख सकते हैं। Choice आपके पास ही है कि आप किस Type की News देखना चाहते हैं, और उसका समय भी सीमित होना चाहिए।

आज काफी सारे लोग ऐसे हैं, जो ऑफिस से घर आते ही न्यूज़ देखना Start कर देते हैं। और Continuous देखते हैं। जब भी Free होते हैं न्यूज़ देखना Start कर देते हैं चाहे वह   Positive हो या Negative। उनके पास अपनी Family के लिए भी Time नहीं होता।

News देखने का एक कारण ये भी है कि जब लोग घर के बाहर होते हैं। तो यही सब discussion चल रहा होता है। और वो इस Discussion में जीतना चाहते हैं।

लेकिन इस Discussion से क्या उनका विकास होता है या उनके परिवार का विकास होता है। ये बात सोचने योग्य है।

 

Friends अगर आपको ये Post “Protect yourself from negative News Hindi Article on news”  पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं.

कृपया Comment के माध्यम से हमें बताएं आपको ये पोस्ट “Protect yourself from negative News Hindi Article on news” कैसी लगी।

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. Offcourse @Right Priyanka Ji

  2. Priya ji
    Me apka blog kafi dino se padh raha hu
    but kabi kabi mujhe office me blog padhne me problem hoti hai,
    to me apka blog ko microsoft word me copy karna chata hu,
    but apke blog me mattar copy nahi ho pata
    baki blogs me ho jata hai apke blog me nahi ho pata
    ho sake to iske liye aap kuch karo

    Thanks

Speak Your Mind

*