Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Stop Thinking and do something

Hindi article on Beginning

Hindi article on Beginning कैसे करें शुरुआत Stop Thinking and do something

Hindi article on Beginning कैसे करें शुरुआत Stop Thinking and do something

कैसे करें शुरुआत

बहुत सारे लोग इस दुनिया में हैं जो सोचते ही जा रहे हैं। सिर्फ सोचते-सोचते उनकी जिन्दगी व्यतीत हो रही है, मगर कुछ कर नहीं पा रहे हैं । ऐसा क्या है जिसकी वजह से उनके Thoughts-Action में नहीं बदल पा रहे हैं।

Friends ये बात बिलकुल सही है कि जब तक सोचेंगे नहीं किसी काम को करेंगे कैसे? लेकिन ऐसा बिलकुल नहीं है कि बहुत ज्यादा सोचने से बहुत ज्यादा काम बनते हैं।

जब तक हम हमारे विचारों को कार्य में परिवर्तित नहीं करेंगे, तब तक हमारे कार्यों की शुरुआत नहीं होगी, यदि आप सोचते ही जा रहे हैं- और आगे… और आगे…, ऐसा होगा, वैसा होगा, ये करूँगा, वो करूँगा, सोचते ही जा रहे हैं…तो धीरे-धीरे  कब  Negative Thoughts आना स्टार्ट हो जायेंगे। आपको पता भी नहीं चलेगा।

क्या आप जानते हैं ? कौन से  Negative Thoughts हमारे दिमाग में आना Start हो जाते हैं ?

जब आप किसी काम की शुरुआत करते हैं, तो सबसे पहले   Negative Thoughts आपके दिमाग में आते हैं कि लोग मेरे बारे में क्या सोचेंगे…कहीं वो मेरा मजाक न उड़ायें… अगर मैं Success नहीं हुआ तो..

इन्ही सब Thoughts की वजह से आप किसी काम की शुरुआत नहीं कर पाते हैं। आप सिर्फ सोचते ही रहते हैं, अपने Thoughts को Action में नहीं ला पाते हैं।

इसलिए सिर्फ सोचते न रहें। जो भी काम आप करना चाहते है उसे करने की कोशिश करें। सिर्फ एक बार शांति से बैठकर गहराई से सोचें कि क्या आप वाकई वो काम करना चाहते हैं और क्या आप वह काम करने के लिए कितनी भी मेहनत करने के लिए तैयार हैं। आपका उद्देश्य सिर्फ पैसे कमाना है या वह काम करके आपको अच्छा महसूस होता है।

हर इन्सान के अन्दर बहुत सारी शक्तियां छिपी होती हैं, लेकिन फिर भी हर इन्सान की एक Limit होती है, Interest होता है।अगर interest है तो वह मुश्किल से मुश्किल काम भी कर सकता है।

एक बार ठीक से विचार कर लेने के बाद बिना किसी की परवाह किये आप जो भी करना चाहते है, अपनी क्षमता के अनुसार शुरुआत तो करें। मत सोचिये की आप Success होंगे या नहीं, ये कोई भी नहीं जानता कि वो Success होगा कि नहीं। पर जो काम आप दिल से करना चाहते हैं, उसमें आपको एक Inner Satisfaction मिलता है। कौन क्या कहेगा क्या सोचेगा इसकी परवाह न करें। क्योंकि लोगो के विचार वक्त के साथ बदल जाते हैं।

मुश्किलें तो आती है, और आयेंगी, इनसे कोई भी नहीं बचता, आपके रास्ते में भी जरुर आयेंगी। आपको धेर्य रखना होगा। और इतना याद रखना है कि काम को बीच में छोड़ना नहीं है। आपको उन मुश्किलों पर नहीं, अपनी क्षमताओं पर ध्यान देना है। अपनी क्षमताओं पर भरोसा करना है, हमेशा Solution के बारे में सोचना है।

मुश्किलें तो आती हैं, और चली जाती हैं। जब आप दिल से कोई काम करते हैं, तो कहीं से एक रास्ता खुलता है और आपकी सारी Problem Solve हो जाती है। जैसा आपने सोचा भी नहीं होता।

लेकिन जब तक शुरुआत नहीं होगी Problem Face नहीं करेंगे, तो Solution तक कैसे पहुंचेंगे। और फिर success तो बहुत दूर की बात हो जाएगी।

“बस एक बात याद रखिये कि आपको कार्य बीच में नहीं छोड़ना है, पूरे दृढ निश्चय के साथ आगे बढ़ना है”।

तो Friends सोचना बंद कीजिये। यही आपका सही समय है, जिसे आप अच्छा समय कहते हैं शुरुआत कर दीजिये।

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. बिलकुल सही कहा आपने Problem Face नहीं करेंगे, तो Solution तक कैसे पहुंचेंगे। और फिर success तो बहुत दूर की बात हो जाएगी।

    बहुत ही बढ़िया पोस्ट में आपको एक Motivational & Inspirational Post send करना चाहता हूँ Guest Post के तौर पर क्या आपका कोई Email address है अगर है तो कृपया lalitrathodh45@gmail.com पर मेल करें |

    Latest Hindi Tips and Trick and How to Guide in Hindi Website http://techandtweet.in

  2. बहुत ही प्रेरणादायक पोस्ट है। और ये सही है हम सिर्फ इसीलिए कुछ नही करते क्योकि हम ये सोचते है की सब हमारे बारे में क्या सोचेगे।

    मुझे भी गेस्ट पोस्ट करनी है। आपसे संपर्क कैसे करे। कृपया बताइये।

    Praveshsinghal2011@gmail.com

    website- http://www.Sachkagyan.com

    guest post Always welcome on my site.

  3. Bahut hi inspirational article hai.

  4. प्रियंका जी आपका यह लेख बहुत ही प्रेरणास्पद है.

Trackbacks

  1. […] Stop Thinking and do someting […]

  2. […] Stop Thinking and do someting […]

  3. […] Stop Thinking and do someting […]

Speak Your Mind

*