Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

हमें दिल की लगी नहीं आती heart touching Hindi poem

हमें दिल की लगी नहीं आती

heart touching Hindi poem

हमें दिल की लगी नहीं आती heart touching Hindi poem

हमें दिल की लगी नहीं आती heart touching Hindi poem

हमें दिल की लगी नहीं आती

चल कर कभी ख़ुशी नहीं आती

 

प्यासे के पास पानी का आना नहीं मुमकिन

मौत के बाद जिन्दगी नहीं आती

 

छोड़ दो इन गिरहों  को खुलने के लिए

गिरहों  में फंसकर ख़ुशी नहीं आती

 

मिल भी जाए सारी खुशियाँ जिन्दगी में

मगर अंदर ही अन्दर एक बेबसी नहीं जाती

 

अगर ऐतबार हो जाए ख़ुशी पर

और इख्तयार हो जाए खुद पर

 

दिल के जज्बातों को मिल जाए मुकम्मल जहाँ

तब भी चाँद तारों से रोशनी नहीं आती

 

इस कविता का विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें.

 

FOR VISIT MY YOU TUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

 

Friends अगर आपको ये Post “हमें दिल की लगी नहीं आती heart touching Hindi poem” पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं.

कृपया Comment के माध्यम से हमें बतायें आपको ये पोस्ट ‘हमें दिल की लगी नहीं आती heart touching Hindi poem’ कैसी लगी.

 

 

Must read

कहीं तो होगा हिंदी कविता

ये मेरे देश की नारी हिंदी कविता 

क्या सबब है कि कुछ हिंदी कविता 

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. Hi
    Bahut achhaey Shanon ka istmaal Kiya Haan apney magar ye itna apkey maan main ata kaisey Haan bahut badiya
    Mam mere lie thoda high level Haan magar bahut achhaey Haan

    • Thank you…

      बहुत लोगों का ये सवाल है कि ऐसे सोचती कैसे हूँ. ये तो मैं भी नहीं जानती की लिखती कैसे हूँ, और कब तक लिख पाऊँगी, ये सब भगवान् की कृपा है मुझ पर. मैं बहुत सोच कर भी नहीं लिखती,
      लेकिन मुझे Poetry लिखना बहुत पसंद है.

  2. Hi
    Aap Jo likhtey Haan wo bahut inspiring to hota Haan magar kabhi kabhi bahut Musqil hota Haan samjhna main Assan se sabdoon ka istmaal bahut kaam karttey Haan aap ki writing se lagta Haan aap bahut serious type ke insaan hoo ho kya

  3. Hi mam
    Apko apney readers key Har sawal ka jaawab Dena chahiye

Speak Your Mind

*