Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

अमृता प्रीतम की बेहतरीन कविताएँ । Famous Poetry of Amrita Pritam

अमृता प्रीतम की बेहतरीन कविताएँ । Famous Poetry of Amrita Pritam

अमृता प्रीतम की बेहतरीन कविताएँ । Famous Poetry of Amrita Pritam

अमृता प्रीतम की बेहतरीन कविताएँ । Famous Poetry of Amrita Pritam

हमारे देश की मशहूर कवियत्री अमृता प्रीतम जिन्होंने 100 से भी ज़्यादा पुस्तकें लिखीं। उन्हें पंजाब की प्रथम कवियत्री माना गया।

उन्हें पद्म भूषण अवार्ड से भी सम्मानित किया गया। उनकी कविताएँ कुछ इस तरह दिल को छू जाती हैं कि इंसान सोचने पर मजबूर

हो जाता है । आज मैं उनकी कुछ कविताएँ आपके साथ Share करने जा रही हूँ।

1 शहर

मेरा शहर एक लम्बी बहस की तरह है 
सड़के – बेतुकी दलीलों -सी …
और गलियाँ इस तरह
जैसे एक बात को कोई इधर घसीटता 
कोई उधर

हर मकान एक मुट्ठी-सा भिंचा हुआ
दीवारें-किचकिचाती-सी
और नालियां, ज्यों मुँह से झाग बहता है

यह बहस जाने सूरज से शुरू हुई थी
जो उसे देख कर यह और गरमाती 

और हर द्वार के मुँह से
फिर साईकिलों और स्कूटरों के पहिये
गालियों की तरह निकलते 
और घंटियाँ-हार्न एक दूसरे झपटते

जो भी बच्चा इस शहर में जन्मता
पूछता कि किस बात पर यह बहस हो रही?
फिर उसका प्रश्न ही एक बहस बनता 
बहस से निकलता, बहस में मिलता…

शंख घंटों के साँस सूखते
रात आती, फिर टपकती और चली जाती

पर नींद में भी बहस ख़तम न होती
मेरा शहर एक लम्बी बहस की तरह है….

 

2:

कुफ़्र 

आज हमने एक दुनिया बेची
और एक दीन ख़रीद लिया
हमने कुफ़्र की बात की

सपनों का एक थान बुना था
एक गज़ कपड़ा फाड़ लिया
और उम्र की चोली सी ली

आज हमने आसमान के घड़े से
बादल का एक ढकना उतारा
और एक घूँट चाँदनी पी ली

यह जो एक घड़ी हमने
मौत से उधार ली है
गीतों से इसका दाम चुका देंगे

 

3 :

सिगरेट 

यह आग की बात है
तूने यह बात सुनाई है
यह ज़िंदगी की वो ही सिगरेट है
जो तूने कभी सुलगाई थी

चिंगारी तूने दे थी
यह दिल सदा जलता रहा
वक़्त कलम पकड़ कर
कोई हिसाब लिखता रहा

चौदह मिनिट हुये हैं
इसका ख़ाता देखो
चौदह साल ही हैं
इस कलम से पूछो

मेरे इस जिस्म में
तेरा साँस चलता रहा
धरती गवाही देगी
धुआं निकलता रहा

उमर की सिगरेट जल गयी
मेरे इश्के की महक
कुछ तेरी सांसों  में
कुछ हवा में मिल गयी,

देखो यह आखरी टुकड़ा है
उँगलियों में से छोड़ दो
कही मेरे इश्कुए की आँच
तुम्हारी उँगली ना छू ले

ज़िंदगी का अब गम नही
इस आग को संभाल ले
तेरे हाथ की खेर मांगती हूँ
अब और सिगरेट जला ले !!

 

4 : पहचान

तुम मिले
तो कई जन्म
मेरी नब्ज़ में धड़के
तो मेरी साँसों ने तुम्हारी साँसों का घूँट पिया
तब मस्तक में कई काल पलट गये–

एक गुफा हुआ करती थी
जहाँ मैं थी और एक योगी
योगी ने जब बाजुओं में लेकर
मेरी साँसों को छुआ
तब अल्लाह क़सम!
यही महक थी जो उसके होठों से आई थी–
यह कैसी माया कैसी लीला
कि शायद तुम ही कभी वह योगी थे
या वही योगी है–
जो तुम्हारी सूरत में मेरे पास आया है
और वही मैं हूँ… और वही महक है…

 

 

MUST  READ

तनहाँ सी ज़िंदगी 

तुम भी क्या ख़ूब कमाल करते हो 

कुछ नहीं कहना है कुछ नहीं सुनना है

 

Friends अगर आपको ये Post ” अमृता प्रीतम की बेहतरीन कविताएँ । Famous Poetry of Amrita Pritam  ”  पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं.

कृपया Comment के माध्यम से हमें बताएं आपको ये Post कैसी लगी।

 

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Speak Your Mind

*