Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

दुनिया कहाँ से कहाँ निकल गई Hindi Poems | Kavita | Famous Poetry in Hindi हिंदी शायरी

दुनिया कहाँ से कहाँ निकल गई Hindi Poems | Kavita | Famous Poetry in Hindi  हिंदी शायरी

दुनिया कहाँ से कहाँ निकल गई Hindi Poems | Kavita | Famous Poetry in Hindi हिंदी शायरी

दुनिया कहाँ से कहाँ निकल गई Hindi Poems | Kavita | Famous Poetry in Hindi हिंदी शायरी

दुनिया कहाँ से कहाँ निकल गई

मैं आज भी वहीं का  वहीं खड़ा हूँ

परिवर्तन ही प्रकृति का नियम है

फिर भी मैं वहीं  रुका सा गया हूँ

शायद ये कुछ संकुचित सोच है मेरी

जो मैं संभलकर भी गिर रहा हूँ

क्यूँ नहीं समझ पाता हूँ मैं कि

अगर मैं रुक भी गया तो क्या होगा

जिन्दगी तो चलती ही रहेगी

तो क्यों न एक नई सोच के साथ

जिन्दगी का थाम के हाथ

चल पडूं बहुत आगे बहुत दूर

जहाँ सिर्फ मैं  खुद के साथ खुश रहूँ

एक ऐसी राह जहाँ खुश होने के लिए

वजहों की जरूरत ही न हो

दुनिया का क्या है वह चलती ही रहेगी

दूर से जो चलती दिखाई दे रही है

उनमें से कितने ही मुझ जैसे रुके हुए होंगे

मगर मैं इस भीड़ में शामिल नहीं

क्योंकि चलना ही जिन्दगी है

पीछे मुडकर देखा तो डर होगा,

आगे गिर जाने का, बिखर जाने का

अब वक्त है दुनिया को छोड़कर

खुद  में समा जाने का

आज मान ही लेता हूँ कि

दुनिया कहीं भी जाए

अब तक मैं अकेले ही तो लड़ा हूँ

खुद को रखने के लिए उम्दा

मैं अब भी बहुत बड़ा हूँ

 

दुनिया कहाँ से कहाँ निकल गई…

 

Friends अगर आपको ये Post ” दुनिया कहाँ से कहाँ निकल गई Hindi Poems | Kavita | Famous Poetry in Hindi  हिंदी शायरी”  पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं.

कृपया Comment के माध्यम से हमें बताएं आपको ये Post”दुनिया कहाँ से कहाँ निकल गई Hindi Poems | Kavita | Famous Poetry in Hindi  हिंदी शायरी” कैसी लगी।

 

FOR VISIT MY YOU TUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. Dheeraj says:

    Hi
    Great thought very inspiring lines
    Mam pls do write ur words on this .this is also beautiful
    Waiting for surprising

  2. कभी-कभी सोचता हूँ तो खुद को तन्हा पाता हूँ;
    क्या आज तन्हाइयां ही मेरे जीने का सबब बन गई हैं…?

    बहुत उम्दा पंक्तियाँ हैं आपकी प्रियंका जी.

  3. BK SATYAM BHAI says:

    MY DEAR IDEAL DIDI PRIYNKA JI APNE JIVAN KO KAMAL KE SAMAN PAVITRA OR KHUSHIYO SE BHARPUR BANANE KE LIYE AAP PRAJAPITA BRAHMAKUMARIY ISWARIYA VISWAVIDYALYA SE JUDE .SWAM BHAGVAN YAHA PAR SABHI KE JIVAN KO KHOOVSURT BANATE HAI .AAP BEING BLISS AWAKING WITH BRAHMAKUMAIS OR SAMADHAN BK.SURAJ BHAI KE PROGRAM .DEKHE .PEACE OF MIND CHANNEL KO JARUR DEKHA KRO JIVAN KHUSHIYO SE BHARPUR HO JAYEGA . OM SHANTI BK SATYAM

  4. Dheeraj says:

    Hi
    mam to kuch Socha apney kuch apkey thoughts
    Waiting

Speak Your Mind

*