Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

न जाने क्या है इस खामोशी का सबब ।। Hindi poetry on Silence

न जाने क्या है इस खामोशी का सबब  Hindi poetry on Silence न जाने क्या है इस खामोशी का सबब बस यही अच्छी लगने लगी है अब   खामोश सी आँखे खामोश मुलाकातें बस यही बोलती रहती हैं … [Read more...]

सुधर सकते हो तुम भी हिंदी कविता Motivational Hindi Poetry

सुधर सकते हो तुम भी हिंदी कविता Motivational Hindi Poetry सुधर सकते हो तुम भी पहले खुद को गलत मानो तो सही   बिगड़ सकते हो तुम भी पहले कुछ सही करने की ठानो तो सही   महक … [Read more...]

वह कहता था वह सुनती थी अमृता प्रीतम Amrita Pritam Hindi Poetry

वह कहता था वह सुनती थी अमृता प्रीतम Amrita Pritam Hindi Poetry वह कहता था, वह सुनती थी, जारी था एक खेल कहने-सुनने का।   खेल में थी दो पर्चियाँ। एक में लिखा था *‘कहो’*, … [Read more...]

मुझसे पहली सी मोहब्बत मेरे मेहबूब ना मांग Faiz Ahmad Faiz Shayari in Hindi

मुझसे पहली सी मोहब्बत मेरे मेहबूब ना मांग Faiz Ahmad Faiz Shayari in Hindi   मुझसे पहली सी मोहब्बत मेरे मेहबूब ना मांग मैंने समझा के तू है तो दरख़्शाँ है हयात   तेरा ग़म है … [Read more...]

एक मुलाक़ात अमृता प्रीतम Hindi Poetry of Amrita Pritam

एक मुलाक़ात अमृता प्रीतम Hindi Poetry of Amrita Pritam मैं चुप शान्त और अडोल खड़ी थी सिर्फ पास बहते समुन्द्र में तूफान था…… फिर समुन्द्र को खुदा जाने क्या ख्याल आया उसने तूफान की एक … [Read more...]

Dil aakhir tu kyun rota hai Hindi Poetry of Javed Akhtar

Dil aakhir tu kyun rota hai  Hindi Poetry of Javed Akhtar दिल आख़िर तू क्यूँ रोता है "जावेद अख़्तर" जब-जब दर्द का बादल छाया  जब ग़म का साया लहराया  जब आँसू पलकों तक आया  जब ये तनहा  दिल … [Read more...]