Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

डर के आगे जीत है Hindi story on fear

डर के आगे जीत है  

Motivational Hindi story on fear

डर के आगे जीत है Hindi story on fear

डर के आगे जीत है Hindi story on fear

एक बार की बात है। एक लड़का था। उसका परीक्षा फल आया। वह परीक्षा में असफल हो गया।  उसके साथियों ने उसका काफी मजाक उड़ाया। उसे ये बात सहन नहीं हुई।  उसने यह बात दिल से लगा ली और उसे लगने लगा कि वह अब कभी सफल नहीं हो पायेगा, इस वजह से वह काफ़ी तनावग्रस्त हो गया। इस असफलता को उसने आख़िरी असफलता मान लिया।

उसके माता पिता ने उसे बहुत समझाया कि ये कोई इतनी बड़ी बात नहीं है। तुम अगर सफल नहीं हुए तो तुम्हारी जिन्दगी रुक नहीं गयी। आगे जीवन बहुत बड़ा है, अगर तुम अभी से घबरा जाओगे तो कैसे चलेगा। जब तक इन्सान असफलता और सफलता के दौर से नहीं गुजरता, तब तक वह बड़े काम नहीं कर सकता।

इन सब बातों का उस पर कोई असर नहीं हुआ।  उसका मन अशांत था और लगातार निराशा उसे घेरने लगी। अशांत मन को जब कुछ समझ नहीं आया। तो वह रात को आत्महत्या करने चल दिया। रास्ते में उसे एक बौद्ध मठ दिखाई दिया। वहाँ से कुछ आवाजें आ रहीं थीं। वह उत्सुकता से उस मठ के अन्दर चला गया।

उस मठ में एक भिक्षुक बैठा था, वह कह रहा था की पानी आखिर मैला क्यों नहीं होता ?

क्योंकि वह हमेशा बहता रहता है…

उसके मार्ग में बाधाएं क्यों नहीं आतीं  ?

क्योंकि वह उन्हें पार करके हमेशा बहता रहता है…

पानी की एक बूंद झरने से नदी, नदी से महानदी और फिर अंत में समुद्र क्यों बन जाती है ?

क्यों कि वह बस बहता रहता है…

 

इसलिये मेरे जीवन तू भी मत रुक, बस बहता चल पानी की तरह। कुछ असफलतायें आयेंगी और आती रहेंगी। मगर तू घबराना मत। बस तू बहता चल. असफलताओं को लांघकर मेहनत करता चल। बहना, चलना और आगे बढ़ते रहना ही जीवन है।

अगर असफलता से घबराकर रुक गए तो वैसे ही सड़ जाओगे, जैसे रुका हुआ पानी सड़ जाता है।

यह सुनकर लड़के को एक नयी प्रेरणा मिली और उसने उसी पल संकल्प किया कि उसे भी बहते हुए पानी की तरह बनना है। अगले ही दिन वह सामान्य होकर एक नए जोश के साथ स्कूल गया। और पहले से ज्यादा अपना ध्यान पढाई पर केन्द्रित किया। वह पूरी लगन और मेहनत के साथ पढ़ाई करने लगा।

आगे चलकर यही लड़का वियतनाम के राष्ट्रनायक हो ची मिन्ह के नाम से जाना गया।

 

इस कहानी से शिक्षा मिलती है कि असफलताओं से घबराकर रुक जाने को असली असफलता कहते हैं, जबकि असफलता को स्वीकार कर आगे बढ़ने वालों को सच्ची सफलता मिलती है।

 

ये भी जरुर पढ़ें :-

स्वामी विवेकानंद के विचार

चाणक्य के विचार

अरस्तु के विचार

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. great story for motivational

  2. Very good motivational story

  3. Good motivational story

Speak Your Mind

*