Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

गुजरता जा रहा है वक़्त पर वक्त गुज़रता नहीं Hindi poetry on time

गुजरता जा रहा है वक़्त पर वक्त गुज़रता नहीं

Hindi poetry on time

गुजरता जा रहा है वक़्त पर वक्त गुज़रता नहीं Hindi poetry on time

गुजरता जा रहा है वक़्त पर वक्त गुज़रता नहीं Hindi poetry on time

गुजरता जा रहा है वक़्त पर वक़्त गुजरता नहीं

गुजरते जा रहें हैं दिन  रात पर  एक लम्हा ठहरता नहीं

 

गुजरते हुए से वक़्त में थाम लिए कुछ लम्हे मैंने

छोड़ दूं उन लम्हों को या थाम के रखूं बस

 

इसी कश-म-कश में एक लम्हा गुजरता नहीं

गुजरता जा रहा है वक़्त पर वक़्त गुजरता नहीं

 

जिन्दगी की सफ़र में गुजर रही है जिन्दगी

जिन्दगी की तलाश में ये सफर कटता नहीं

 

चलते-चलते सफ़र में आ भी  गया किनारा

तो किनारे पे आके भी पानी ठहरता नहीं

 

गुजरता जा रहा है वक़्त पर वक़्त गुजरता नहीं
गुजरते जा रहें हैं दिन  रात पर  एक लम्हा ठहरता नहीं

 

You can also watch video of this Poem….and don’t forget to Subscribe for new one.

 

Friends अगर आपको ये Post “गुजरता जा रहा है वक़्त पर वक्त गुज़रता नहीं Hindi poetry on time” पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते है.

 अगर आपका कोई सुझाव है तो कमेंट के माध्यम से हमें बता सकते है.

 

FOR VISIT MY YOU TUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

ये भी जरुर पढ़ें :-

ये मेरे देश की नारी 

सवाल खुद जबाब बन जाए हिंदी कविता 

आने वाला पल गुज़र जाएगा एक दिन 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. kamaal likha haan apko itni inspiration kahaan se ati haan great mam god bless

Speak Your Mind

*