Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Myself Poem in Hindi ।। खुद पर कविता ।। खुद को खोकर ही खुद को पाया है हमने

Myself Poem in Hindi ।। खुद पर कविता ।। खुद को खोकर ही खुद को पाया है हमने

Myself Poem in Hindi ।। खुद पर कविता ।। खुद को खोकर ही खुद को पाया है हमने

Myself Poem in Hindi ।। खुद पर कविता ।। खुद को खोकर ही खुद को पाया है हमने

खुद को खोकर ही खुद को पाया है हमने

बड़ी मुश्किल से ये मिज़ाज़ पाया है हमने

 

कर दिया है इस दुनिया को दर किनार

तब कहीं  खुद को समझ पाया है हमने

 

किसी को खुश करने की अब जरुरत न रही

जब ये जाना कि हर रिश्ता निभाया है हमने

 

क्या सोचते थे हम और सच क्या था

सच और झूठ के फासले को हटाया  है हमने

 

वक्त के साथ बदल जाना ही हकीकत है

और फिर वक्त को भी तो भुलाया है हमने

 

सारी दुनिया के झमेलों को छोड़कर

बस खुद को ही अपनाया है हमने

 

सबको लेकर चल पाना तो मुमकिन न रहा

कुछ अपनों से भी दामन छुड़ाया है हमने

 

खुद को खोकर ही खुद को पाया है हमने…

 

Friends अगर आपको ये Post “Myself Poem in Hindi ।। खुद पर कविता ।। खुद को खोकर ही खुद को पाया है हमने ” पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते हैं.

कृपया Comment के माध्यम से हमें बताएं आपको ये पोस्ट कैसी लगी.

FOR VISIT MY YOUTUBE CHANNEL

CLICK HERE

 

 

 

 

 

 

DoLafz की नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Comments

  1. Hi mam great inhi words ka ontezar Tha Kya baat Haan great

  2. Hi mam great inhi words ka ontezar Tha Kya baat Haan great

  3. Hi mam great
    Maam AAP standup poetry aur stand up comedy bhi dekhna you tube main bahut log aaj apni kahaniyaan keh rahey hasn thoughts and poem

  4. Waah kya khoob hai aisa lagta hai ye bahut hi gehre words hai jo itni aasani se nahi nikalte bahut mahenat lagti hai bahut achha paryaas hai lage raho hame aur bhi intejaar hai aisi kavita ka

Speak Your Mind

*